*’विकास और प्रयास का वर्ष रहा 2023, जनपद को मिली कई उपलब्धियां’*

वर्ष 2023 कई मायनों में रुद्रप्रयाग जनपद के लिए खास रहा। जहां एक ओर श्री केदारनाथ धाम यात्रा ने नया रिकॉर्ड कायम किया वहीं यात्रा से सीधे तौर पर स्थानीय युवाओं को स्वरोजगार एवं रोजगार का मौका मिला। खासतौर पर जनपद में महिलाओं की आजीविका सुधार में केदारनाथ यात्रा की अहम भूमिका रही। यह वर्ष स्वास्थ्य सुविधाओं एवं शिक्षा दोनों के हिसाब से भी शानदार रहा क्योंकि राज्य सरकार के अथक प्रयासों के बाद जनपद में करीब 21 करोड़ की लागत से नर्सिंग कॉलेज तैयार होने जा रहा है वहीं गंभीर बीमारी एवं आपातकाल मरीजों के लिए क्रिटिकल केयर सेंटर का निर्माण भी शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर धामी के अथक प्रयासों से विश्वस्तरीय इनवेस्टर समिट का प्रभाव भी जिले में बखूबी देखने को मिला। वहीं किसानों एवं काश्तकारों की आजीविका सुधार, चोपता घाटी में इको पार्क निर्माण से लेकर कई अन्य उपलब्धियां भी जनपद के हिस्से आयी। ऐसी कुछ खास एवं महत्त्वपूर्ण उपलब्धियां हम आपके साथ साझा करने जा रहे हैं।

*’आस्था का उमड़ा सैलाब, केदारनाथ धाम में यात्रा के सभी रिकार्ड टूटे’*

प्रदेश में चारधाम यात्रा हर वर्ष नए रिकार्ड बनाती जा रही है। चारधाम यात्रा के महत्वपूर्ण धामों में शामिल 11वें ज्योर्तिलिंग श्री केदारनाथ धाम ने सभी पुराने रिकार्ड तोड़कर नया कीर्तिमान कायम किया है। जिलाधिकारी सौरभ गहरवार के कुशल नेतृत्व में सभी संबंधित विभागों द्वारा दर्शन करने आए तीर्थ यात्रियों के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं चाक-चौबंद की गई, जिसका परिणाम रहा कि इस वर्ष बाबा केदारनाथ के दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या 19 लाख 61 हजार के पार पहुंच गई है। श्री केदारनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ 25 अप्रैल 2023 को खुल गए थे, मौसम खराब होने के चलते मई के दूसरे सप्ताह से यात्रा ने रफ्तार पकड़ी। बावजूद इस वर्ष रिकार्ड 19 लाख 61 हजार से ज्यादा भक्त बाबा केदारनाथ के दर्शनों को देश-विदेश से पहुचें। जबकि पिछले वर्ष पूरी यात्रा के दौरान करीब 16 लाख श्रद्धालुओं ने बाबा के दर्शन किए थे।

*’जनपद को मिली नर्सिंग कॉलेज की सौगात’*

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी की सरकार ने जनपद को नर्सिंग कॉलेज की सौगात दी है। 20 करोड़ 44 लाख 16 हजार की लागत से विकास खंड अगस्त्यमुनि के कोठगी में बनने जा रहे नर्सिंग काॅलेज का भूमि पूजन एवं शिलान्यास में मुख्यमंत्री ने स्वयं शिरकत की थी। कॉलेज का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। क्षेत्र में नर्सिंग काॅलेज के बनने से यहां के बच्चों को नर्सिंग की पढ़ाई में लाभ मिलेगा एवं उन्हें अंयत्र नहीं जाना पड़ेगा। वहीं काॅलेज खुलने से क्षेत्रीय विकास को रफ्तार मिलेगी एवं रोजगार व स्वरोजगार के अवसर भी पैदा होंगे।

*’केदारनाथ यात्रा को सुगम बनाएगा रोपवे’*

श्री केदारनाथ धाम यात्रा अब और सुगम होने जा रही है। 11800 फीट की ऊंचाई पर बसे 11वें ज्योतिर्लिंग बाबा केदारनाथ धाम तक पहुंचने के लिए करीब 20 किलोमीटर का कठिन ट्रेक चढ़ना पड़ता है, लेकिन देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने ड्रीम प्रोजेक्ट के तहत केदारनाथ धाम को रोपवे से जोड़ने की पहल की है। केदारनाथ पैदल यात्रा मार्ग के महत्वपूर्ण पड़ाव गौरीकुंड से रामबाड़ा तक 9.70 किलोमीटर लंबा रोपवे तैयार होगा। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के नेशनल हाईवे लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट लिमिटेड को इसका निर्माण करवाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। नेशनल हाईवे लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट लिमिटेड के डिप्टी मैनेजर जितेष गुप्ता ने बताया कि करीब 1100 करोड़ रुपये की लागत से बनने जा रहे रोपवे निर्माण के लिए सर्वे का कार्य पूर्ण हो गया है एवं टेंडर प्रक्रिया भी शुरू हो गई है।

*’करीब साढ़े 600 करोड़ का निवेश मिला’*

राज्य के आर्थिक विकास, निवेश प्रोत्साहन और रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में चल रहे अभियान का जनपद स्तर पर भी प्रभाव देखने को मिला। जिलाधिकारी सौरभ गहरवार के कुशल प्रबंधन के चलते इन्वेस्टर समिट के तहत रुद्रप्रयाग जनपद में हाइड्रो प्रोजेक्ट, होम स्टे, सोलर समेत अन्य सेक्टर में जिले को बड़ा निवेश मिला। महाप्रबंधक जिला उद्योग केंद्र महेश प्रकाश ने बताया कि जनपद में करीब साढ़े 600 करोड़ का निवेश मिला है। इसमें एक हाइड्रो प्रोजेक्ट भी शामिल है जिसकी लागत 466 करोड़ रुपये है। वहीं होम स्टे, सोलर, कृषि सहित अन्य उद्योगों में 160 करोड़ से ज्यादा का निवेश मिला है।

*’जिले में दोगुना हुआ ट्रॉउट मछली का उत्पादन’*

मछली उत्पादन के क्षेत्र में जनपद रुद्रप्रयाग लगातार बढ़त बना रहा है। राज्य एवं केंद्र सरकार द्वारा मछली पालन के लिए चलाई जारी विभिन्न योजनाओं का लाभ जनपद मुख्यालय से लेकर दूरस्थ ग्रामीण अंचल के लोग उठा रहे हैं। जिला मत्स्य प्रभारी संजय बुटोला ने बताया कि जनपद में 260 किसान मत्स्य उत्पादन से जुड़े हुए हैं एवं खुद स्वरोजगार करने के साथ दूसरों को भी रोजगार दे रहे हैं। जनपद में ट्राउट मछली के उत्पादन पर विशेष जोर दिया जा रहा है जिससे किसानों को अच्छी-खासी आमदनी हो रही है। जहां पिछले वर्ष जनपद कि किसानों ने 5 टन से अधिक ट्राउट मछली की बिक्री की थी वहीं इस वर्ष करीब 10 टन ट्राउट मछली की बिक्री अब तक कर चुके हैं। ट्राउट मछली 500 से 600 रुपये प्रति किलो के मूल्य पर बिक रही है जिससे किसानों को अच्छा खासा लाभ हो रहा है। वहीं इस वर्ष जनपद में 9100 घन मीटर नए तालाब विकसित किए जा रहे हैं जिससे मत्स्य उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा एवं किसानों की आजीविका और सुधरेगी।

*’जनपद में ही तैयार होंगे नॉन वोवन बैग’*

सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करने के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयास कर रही है। जनपद में जिलाधिकारी सौरभ गहरवार भी सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल खत्म करवाने का पूर्ण प्रयास कर रहे हैं। इसी क्रम में रुद्रप्रयाग में सहकारिता विभाग, भेषज एवं सहकारी संघ भटवाड़ीसैण के माध्यम से जनपद में नॉन वोवन बैग की इकाई स्थापित करने जा रहा है ताकि स्थानीय लोगों को रोजगार देने के साथ ही जनपद में सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल को खत्म करने में मदद मिल सके। जिला सहायक निबंधक सहकारिता रणजीत सिंह राणा ने बताया कि 30 लाख की लागत से जनपद में नॉन वोवन बैग की फैक्ट्री लगने जा रही है। सर्वे एवं डीपीआर कार्य पूर्ण होने के बाद इकाई की स्थापना को टेंडर की प्रक्रिया भी शुरू की जा चुकी है। रणजीत सिंह ने बताया कि यह वर्ष विश्व मिलेट वर्ष के रूप में भी मनाया जा रहा है इस क्षेत्र में भी जनपद में किसान एवं काश्तकारों के साथ मिलकर सहकारिता विभाग ने बेहतरीन काम करते हुए 195 मेट्रिक टन मंडुवा किसानों से खरीदा है। इससे किसानों को अब तक 75 लाख रुपए की आय भी हो चुकी है। वहीं कई महिला स्वयं सहायता समूह ने भी इसमें सक्रिय भागीदारी निभाते हुए आमदनी की है।

*’गंभीर बीमारी एवं आपातकाल के लिए बनेगा क्रिटिकल केयर सेंटर’*

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं की बेहतरी के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। खास तौर पर पहाड़ी जिलों में स्वास्थ्य क्षेत्र में सरकार विशेष कार्य कर रही है। इसी क्रम में जनपद रुद्रप्रयाग में एक क्रिटिकल केयर सेंटर तैयार होने जा रहा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ हरीश चंद्र सिंह मार्तोलिया ने बताया कि जिला चिकित्सालय में 23 करोड़ की लागत से 50 बेड का क्रिटिकल केयर सेंटर तैयार होने जा रहा है जिसका निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। सेंटर तैयार होने के बाद गंभीर बीमारी एवं आपातकाल के केसों का निस्तारण जिले में ही हो सकेगा। जनपद के साथ ही नजदीकी जनपद के लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा।

*’महिला समूहों ने केदारनाथ यात्रा के दौरान करीब 70 लाख रुपए से ज्यादा का किया कारोबार’*

श्री केदारनाथ धाम यात्रा इस बार जनपद की महिलाओं के लिए सौगात दे गई। जनपद में संचालित महिला समूहों के लिए यह यात्रा बेहद सुखद साबित हुई। इस वर्ष रिकॉर्ड 19 लाख 61 हजार से ज्यादा श्रद्धालु बाबा केदारनाथ धाम के दर्शनों को पहुंचे जिसका सीधा प्रभाव महिलाओं की आय एवं आर्थिकी पर भी देखने को मिला। श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या के चलते महिला समूहों के व्यवसाय को नई ऊंचाइयां मिली। केदारनाथ यात्रा से जुड़े विभिन्न महिला समूहों ने इस वर्ष 70 लाख रुपए से ज्यादा का व्यापार किया। अकेले चोलाई के प्रसाद से लगभग 65 लाख रुपए का व्यवसाय हुआ। इसके अलावा स्थानीय हर्बल धूप, चूरमा, बेलपत्री, शहद, जूट एवं रेशम के बैग आदि से पांच लाख रुपए की कमाई महिलाओं द्वारा की गई है। विभिन्न महिला समूहों से जुड़ी 500 से ज्यादा महिलाओं को इससे रोजगार भी मिला। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी सरकार के महिला स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से महिलाओं के उत्थान के लिए किए जा रहे प्रयासों को भी इससे बल मिला है। इसी क्रम में महिला समूहों द्वारा तैयार उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री ने सचिवालय परिसर में भी मिलेट बेकरी ऑउटलेट की शुरुआत की है।

*’चोपता वैली में 11.5 करोड़ की लागत से तैयार होगा इको टूरिज्म जोन’*

मिनी स्विट्जरलैंड के नाम से प्रसिद्ध रुद्रप्रयाग जिले की चोपता घाटी में इको टूरिज्म जोन तैयार होने जा रहा है। वन विभाग ने इसके लिए कवायद शुुरू कर दी है। विभाग ने इको टूरिज्म बोर्ड से सहमति मिलने के बाद 11.5 करोड़ की लागत से तैयार होने जा रहे पार्क के लिए पहले फेज में 5.3 करोड़ रुपए की स्वीकृति मिली है। जिसमें एक करोड़ रुपए की पहली किस्त भी जारी हो गई है। इको टूरिज्म जोन तैयार होने से जहां सालभर पर्यटन जारी रहेगा वहीं चोपता घाटी के लोगों को सुनियोजित एवं सतत रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। प्रभागीय वनाधिकारी रुद्रप्रयाग अभिमन्यु ने बताया कि चोपता में देश-विदेश से पर्यटक हर साल पहुंचते हैं। यहां दुनिया का सबसे ऊंचा शिव मंदिर तुंगनाथ स्थित है जिसके दर्शनों को प्रतिवर्ष लाखों श्रद्धालु यहां पहुंच रहे हैं। इसके अलावा विंटर टूरिज्म के लिए भी हजारों पर्यटक हर साल यहां आते हैं। यहां पर व्यवस्थित टूरिज्म जोन विकसित होने से राज्य सरकार एवं स्थानीय जनता दोनों को लाभ होगा।

*’तृतीय केदार तुंगनाथ में रिकार्ड यात्री दर्शनों को पहुचें’*

पंचकेदारों में शामिल तृतीय केदार तुंगनाथ में इस वर्ष रिकार्ड यात्री दर्शनों को पहुंचे। इतिहास में पहली बार मंदिर में यात्रियों का आंकडा 1 लाख 36 हजार के पार पहुंचा। इससे पहले वर्ष 2022 में सबसे ज्यादा 28 हजार यात्रियों ने भोले बाबा के दर्शनों को पहुंचे थे। एक वर्ष में ही यात्रियों की संख्या चार गुना पहुंचने से जहां पर्यटन एवं तीर्थाटन को बढ़ावा मिला है, वहीं स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिला है।

*’चारधाम यात्रा में सुगमता लाएगी रुद्रप्रयाग सुरंग’*

*’900.3 मीटर लंबी सुरंग निश्चित समय से पहले हुई आरपार’*

प्रदेश में चारधाम यात्रा को सुगम एवं सुदृढ बनाने के लिए मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी सरकार लगातार प्रयास कर रही है। इसमें देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का भी पूरा सहयोग उत्तराखंड को प्राप्त हो रहा है। चारधाम यात्रा को सुगम बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने 12000 करोड़ रुपए की लागत से उत्तराखंड में ’ऑल वेदर’ निर्माण का लक्ष्य रखा है ताकि 12 महीने उत्तराखंड में पर्यटन जारी रहे। वहीं चीन-तिब्बत सीमा से उत्तराखंड की बॉर्डर नजदीक होने के चलते इसके सामरिक महत्व भी हैं। रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय में ऋषिकेश-बदरीनाथ व रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग को जोड़ने के लिए निर्माणाधीन 900.3 मीटर लंबी सुरंग 31 अक्टूबर को आरपार हो गई है। रुद्रप्रयाग जनपद चार धाम यात्रा मार्ग के सबसे महत्वपूर्ण पड़ाव में से एक है। लेकिन जाम की समस्या के चलते हर वर्ष यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है ऐसे में ऋषिकेश-बदरीनाथ व रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग को जोड़ने के लिए तैयार सुरंग यातायात में सुगमता के लिए महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

You missed