देहरादून। पंचायत विकास योजना एवं थीम आधारित नियोजन विषय पर गैर सरकारी संगठनों के प्रशिक्षकों का राज्य स्तरीय तीन दिवसीय प्रशिक्षण (ToT) कार्यक्रम का आयोजन किया गया पंचायत विकास योजना एवं थीम आधारित नियोजन विषय पर गैर सरकारी संगठनों के प्रशिक्षकों का राज्य स्तरीय तीन दिवसीय प्रशिक्षण (ToT) कार्यक्रम के द्वितीय बैच के दूसरे दिन का संचालन धर्मस्व एवं संस्कृति विभाग प्रेक्षागृह, हरिद्वार बाई पास रोड, देहरादून में हुआ । दूसरे दिन की शुरुआत पुनरीक्षण से हुआ जिसका संचालन सेवानिवृत जिला पंचायत राज अधिकारी जफर खान ने किया । तत्पश्चात दिनेश गंगवार स्टेट प्रोजेक्ट मैनेजर, पंचायती राज निदेशालय, देहरादून ने ई गवर्नेस विषय पर प्रतिभागियों को प्रशिक्षित किया जिसके अंतर्गत PDI, वाइब्रेंट ग्राम सभा, जीपीडीपी पोर्टल सहित अन्य ऑनलाइन प्लेटफार्म्स के विषय में विस्तृत परिचर्चा की । शिवाव्रत कर, राष्ट्रीय प्रशिक्षण विशेषज्ञ ने थीम 1 गरीबी मुक्त एवं उन्नत आजीविका युक्त पंचायत, थीम 8 सुशासनयुक्त पंचायत एवं थीम 6 आत्म निर्भर अवस्थापना युक्त पंचायत विषयों पर प्रतिभागियों से उक्त थीम्स के विभिन्न संकेतकों, योजनाओं और व्यवस्थाओं पर आधारित संवाद स्थापित करते हुए विस्तृत परिचर्चा किया ।

प्रदीप मेहता स्टेट हेड UNDP ने ऑनलाइन जुड़कर थीम 5 स्वच्छ एवं हरित गांव थीम पर चर्चा करते हुए पर्यावरण संरक्षण, स्वच्छ ऊर्जा की आवश्यकता और आपदा प्रबंधन में करने योग्य और न किए जाने वाले कार्यों पर प्रकाश डाला।
अनूप नौटियाल, विशेषज्ञ, अपशिष्ट प्रबंधन ने कूड़ा निस्तारण में सामूहिक प्रयास किए और सामाजिक सहभागिता द्वारा पंचायतों को स्वच्छ और हरित गांव में परिवर्तित किए जाने की रूपरेखा पर प्रकाश डाला ।
सीडीपीओ तरुणा चमोला और डीपीओ उदय प्रताप सिंह ने थीम 3 बाल हितैषी पंचायत और थीम 9 महिला हितैषी पंचायत के लक्ष्य को प्राप्त करने में विभाग द्वारा संचालित योजनाओं से प्रत्येक लाभार्थी को संतृप्त करने में पंचायतों कीभूमिका पर प्रकाश डाला । वहीं IRDT में प्रारंभ तीन दिवसीय प्रशिक्षण के अंतिम दिन पंचायती राज निदेशालय के उप निदेशक मनोज कुमार तिवारी ने पुनरीक्षण के बाद सुश्री गीता कांडपाल, विशेषज्ञ, जल जीवन मिशन ने थीम 4 जल पर्याप्त गांव विषय पर पंचायतों द्वारा जल प्रबंधन और जल संचयन सहित शुद्ध पेयजल की आवश्यकता हेतु विभिन्न प्रक्रिया के संबंध में चर्चा किया, और भारत सरकार द्वारा संचालित जल जीवन मिशन योजना की विस्तृत जानकारी प्रदान की । राष्ट्रीय ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज संस्थान, हैदराबाद की वरिष्ठ परामर्शी सुश्री दीप्ति पीकिंडो ने थीम 3 बाल हितैषी पंचायत और थीम 9 महिला हितैषी पंचायत विषय पर विशेषज्ञता के संबंध में विस्तृत परिचर्चा की । समूह चर्चा और फीडबैक के बाद प्रतिभागियों का मूल्यांकन टेस्ट भी लिया गया जिसके परिणामों की घोषणा कुछ समय पश्चात की जायेगी, इसके बाद प्रतिभागियों को सचिव श्री हरिचंद सेमवाल जी और निदेशक पंचायती राज श्रीमती निधि यादव द्वारा प्रमाण पत्र देकर जनसेवा की प्राथमिकता को प्रत्येक कार्यों के केंद्र में रखकर किए जाने की आवश्यकता जताई और भविष्य सफलता हेतु निर्धारित रणनीति के क्रियान्वयन हेतु प्रतिबद्धता का आह्वान किया । आगे बढ़ने की रणनीति के सम्बंध में सचिव पंचायती राज श्री हरिचंद सेमवाल जी ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र और राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं को जन जन तक पहुंचाने और योजनाओं के वास्तविक क्रियान्वयन में पंचायत प्रतिनिधियों की क्षमतावृद्धि अनिवार्य है और उसके लिए मास्टर ट्रेनर्स को पूरी लगन और निष्ठा से अपना दायित्व है।

You missed