भारतीय जनता पार्टी (BJP) से लेकर कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल (SAD) ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या को लेकर आम आदमी पार्टी की सरकार को घेर लिया है। एक बार फिर राज्य में आप सरकार को बर्खास्त करने की मांग उठी है। साथ ही सियासी दल मामले की स्वतंत्र जांच कराए जाने की मांग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने हाईकोर्ट के सिटिंग जज से जांच कराए जाने की मांग की है। इस संबंध में मूसेवाला के पिता बरकौल सिंह ने भी सीएम को पत्र लिखा था।

शिअद के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने राज्य के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से मुलाकात की। चर्चा के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा, ‘अगर पंजाब सरकार ने सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा वापस लेने का गलत फैसला नहीं लिया होता, तो वह जिंदा होते। शिअद केंद्रीय स्वतंत्र एजेंसी इस मामले की जांच करती है।’

इस दौरान बादल ने कहा कि मान सीएम दफ्तर के लायक नहीं है। उन्होंने कहा, ‘हम पता चला है कि अपराध करने के लिए AK-49 राइफल का इस्तेमाल हुआ है। हमने मांग की है कि पंजाब सरकार को तत्काल बर्खास्त करना चाहिए। सीएम भगवंत मान सीएम कार्यालय संभालने के लायक नहीं है।’

भाजपा के पंजाब प्रमुख अश्विनी कुमार शर्मा ने कहा, ‘जब से यह सरकार सत्ता में आई है, यहां अराजकता है। सरकार सीएम मान नहीं चला रहे हैं। वह अरविंद केजरीवाल और राघव चड्ढा के की कठपुतली हैं, जो न ही पंजाब और न ही उसकी संवेदनशीलता को जानते हैं।’ इस दौरान उन्होंने सरकार के सुरक्षा हटाने के फैसले पर भी सवाल उठाए।

उन्होंने कहा, ‘इस सरकार ने 424 लोगों की सुरक्षा कम की और केवल तालियों के लिए उनकी सुरक्षा का जोखिम में डालकर सूची सार्वजनिक कर दी। ऐसे दस्तावेज गोपनीय होते हैं। जिन लोगों ने इस नियम को तोड़ा है, उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। हम इसकी मांग करते हैं। हम स्वतंत्र NIA जांच की मांग करते हैं।’

इधर, कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख राजा अमरिंदर सिंह वडिंग ने भी राज्य की आप सरकार को बर्खास्त करने की मांग की थी। सोमवार को उन्होंने बताया कि शाम 6 बजे अस्पताल से गुरुद्वारा साहिब तक ‘शांति मार्च’ निकाली जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *