कैंट बोर्ड इस्तेमाल की गई प्लास्टिक की पन्नियों से ट्री-गार्ड, टाइल्स और बेंच बनवाएगा। गढ़ी स्थित दून छावनी परिषद में गुरुवार को हुई बोर्ड बैठक में विभिन्न प्रस्ताव पारित किए गए। कैंट बोर्ड के अध्यक्ष ब्रिगेडियर अनिरबन दत्ता, सीईओ अभिनव सिंह और नामित सदस्य विनोद पंवार ने इन मुद्दों पर मंथन किया। सीईओ अभिनव सिंह ने बताया कि तहबाजारी शुल्क के लिए दोबारा टेंडर कराने का निर्णय लिया गया। प्रेमनगर और घंगोड़ा में कूड़ा निस्तारण का कॉन्ट्रैक्ट फिलहाल तीन महीने के लिए टाल दिया गया है। कम्पनी को पहले तीन माह तक बेहतर काम करके दिखाना होगा। इसके बाद कॉन्ट्रेक्ट आगे बढ़ाने पर विचार किया जाएगा। गढ़ी और प्रेमनगर क्षेत्र में चार-चार हाईमास्ट लाइट लगाई जाएंगी। इस मौके पर 6 आवासीय नक्शे भी मंजूर किए गए हैं।

पुराने कपड़ों से बने थैले सस्ते दाम पर बेचेंगे
पुराने कपड़ों से थैले बनाकर लोगों को सस्ते दाम पर बेचने का भी निर्णय लिया गया। इसके लिए कुछ स्थानों पर थैला घर बनाए जाएंगे। लोगों को थैला पांच रुपये में उपलब्ध कराया जाएगा। अनुकंपा के आधार पर नियुक्तियों के लिए कमेटी बनाई गई हैं। करीब 11 साल से अनुकम्पा नियुक्तियां नहीं हुई हैं। रिटायरमेंट से पूर्व जिन 45 कर्मचारियों की मौत हुई, उनके परिजन इसका इंतजार कर रहे हैं। इस वर्ष बोर्ड 13-14 पदों पर नियुक्ति कर सकता है। जेई बालेश भटनागर की एई पद पर पदोन्नति को पिछली बैठक में पास कर दिया था। इस बार फिर विचार हुआ। अधिकारी ने बताया कि एई की पोस्ट छावनी परिषद में सीधी भर्ती से भरी जानी चाहिए। इसलिए इस प्रकरण को उच्च स्तर पर राय के लिए भेजा जाएगा।

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट की स्वच्छता चौपाल लगेगी
छावनी परिषद ने सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट को और बेहतर करने के लिए तीन दिन का एक कार्यक्रम कराने का निर्णय भी लिया है। इसके तहत ‘स्वच्छता चौपाल’ और ‘स्वच्छता मेला’ भी लगेगा। चौपाल में स्वच्छता से जुड़े उत्पादों और मशीनों की प्रदर्शनी लगेगी। चौपाल में कंपनियों और स्टार्टअप को प्रोडक्ट दिखाने का मौका मिलेगा। यह कार्यक्रम अक्टूबर या नवंबर में होगा। सदस्य विनोद पंवार ने बताया कि कैंट बोर्ड के प्रेमनगर कार्यालय का अगले सप्ताह शुभारंभ किया जाएगा। बोर्ड ने पैरालाइज सफाई कर्मचारी प्रदीप कुमार को तीन साल बाद नौकरी पर रखने का निर्णय लिया है। सीईओ अभिनव सिंह ने बताया कि प्रदीप पर परिवार की जिम्मेदारी थी। इसलिये यह फैसला लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *