उत्तराखंड में हो रही भारी बारिश यात्रियों के लिए मुसीबत बनती जा रही है। बरसात के बाद बदरीनाथ हाईवे लामबगड़ में बाधित हो गया है। प्रदेश के कई जिलों में बारिश से सड़कें भी बंद हैं, जिससे जगह-जगह यात्री फंसे हुए हैं। प्रशासन द्वारा बंद सड़कों को खालने का काम किया जा रहा है, लेकिन खराब मौसम बाधा बना हुआ है।

 बदरीनाथ नेशनल हाईवे पर लामबगड़ खचड़ा नाले में पहाड़ी से बरसाती सैलाब आने के कारण यात्रा मार्ग बाधित हो गया है। जिस कारण सैकड़ों की तादात में तीर्थ यात्री लामबगड़ में फंस गए हैं। वहीं लामबगड़ खचड़ा नाले में पानी का वेग कम होने का नाम नहीं ले रहा है।

पानी के बढ़ते बहाव के कारण एसडीआरएफ की टीम ने लामबगड़ में फंसे हुए 50 तीर्थ यात्रियों को रस्सी के साहारे नाले से आर पार कराया।  तहसीदार जोशीमठ रवि शाह ने बताया कि सभी यात्री सकुशल सुरक्षित जगहों में रूके हुए हैं व पानी का वेग कम होते ही यहां पर सडक को सही करने का काम शुरू किया जायेगा।

बता दें कि पानी व पहाड़ी से आये भारी बोल्डर के कारण खचड़ा नाला लगभग 20 मीटर तक यहां पर क्षतिग्रस्त हो गया है।  वहीं रेस्क्यू में लगे एसडीआरएफ के हैड कांसटेबल मंगल भाकुनी, कांसटेबल प्रमोद बोरा, रामकृष्ण, मनीष बुटोला, रणजीत सिंह ने बताया कि खचड़ा नाले के अतिरिक्त लामबगड़ नाले में भी पहाड़ी से पानी का उफान आने का सिलसिला जारी है।

लामबगड़ नाले में 15 मीटर सड़क बह गई है। इस कारण काफी परेशानी हो रही है। बताया कि अभी भी यहां पर पहाड़ी से तेज पानी व मलबा बोल्डर आने का सिलसिला जारी है। जिस कारण यात्री वापस जोशीमठ एवं बदरीनाथ के लिए भेज दिए गए हैं।

बंदरकोट में सात घंटे तक बाधित रहा गंगोत्री हाईवे 
भारी बारिश के कारण बंदरकोट के पास गंगोत्री हाईवे शुक्रवार को भी कई घंटों तक आवाजाही के लिए ठप रहा।  तड़के सुबह भारी मात्रा में चट्टानी मलबा गिरने से हाईवे आवाजाही के लिए बंद हो गया था। हालांकि करीब सात घंटे बाद बीआरओ की ओर से राजमार्ग को यातायात के लिए बहाल कर दिया गया, जिससे मुसाफिरों ने राहत की सांस ली।

बीआरओ की मशीनरी सुबह हाईवे बहाल करने में जुटी रही। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि गंगोत्री व यमुनोत्री हाईवे पर यातायात निर्बाध रूप से जारी है। पुरसाड़ी में बाधित रहा हाईवे: गोपेश्वर। बदरीनाथ हाईवे पुरसाड़ी में भूस्खलन होने के कारण कई घंटे बाधित रहा।

टिहरी जिले में बारिश के बाद कई सड़कें बंद 
टिहरी जिले में वर्षा हो रही है। चम्बा ब्लॉक के नज़दीकी गांव दिखोल में सुबह बाकी बारिश से ग्रामीण खेम सिंह के भवन को क्षति पहुंची है। जनपद क्षेत्रान्तर्गत सड़क मार्गों की स्थिति-
1-राज्य मार्ग 69 लम्बगांव-मोटना-रजाखेत-घनसाली मार्ग किमी 3 में वाशआउट होने से अवरुद्ध है।
2- राज्य मार्ग 77 नरेंद्रनगर-रानीपोखरी मार्ग किमी 1,6,8 में अत्यधिक मलवा व बोल्डर आने से अवरुद्ध है।
3- ग्रामीण मार्ग इठारना-कुखई किमी 6 व 7 में भारी मलवे से अवरुद्ध, जिसके 30 जुलाई 2022 तक सुचारीकरण की संभावना है।
4- ग्रामीण मार्ग झाला- कोटी किमी 1 में वॉशआउट होने से अवरुद्ध है।
5- ग्रामीण मार्ग बूढाकेदार-पिनस्वाड किमी 2,3 में मलवा व किमी 13 से 18.5 में मलवा व वॉशआउट है।
6- ग्रामीण मार्ग भरपूर-टोल-बौंठ- खरसाडी किमी0 11 में मलवा आने से अवरुद्ध है।
7-ग्रामीण मार्ग खोला (थापली)-मुसमोला के किमी 5 में मलवा आने से पुस्ता क्षतिग्रस्त होने से अवरुद्ध है।
8- ग्रामीण मार्ग धोपडधार-समणगांव के किलोमीटर 2 में मलबा आने से अवरुद्ध है।
9- ग्रामीण मार्ग ज्वारना-कंस्यूड़ के किलोमीटर 14 में मलबा आने से अवरुद्ध है।
10- ग्रामीण मार्ग डागर-कोठार- पालीगोडी के किलोमीटर दो 5, 6 में मलबा आने से अवरुद्ध है।
11- ग्रामीण मार्ग गहड़- पल्यापताला  के किलोमीटर 10 में मलबा आने से अवरुद्ध है।
12- ग्रामीण मार्ग चाचकण्डा- सोनी के किलोमीटर 2, 3 में मलबा आने से अवरुद्ध है।
13- ग्रामीण मार्ग घुत्तू गंगी किमी 6,8,14 में मालवा आने से अवरुद्ध हैं। कुल 2 राज्य मार्ग व 11 ग्रामीण मार्ग अवरुद्ध हैं, जिनके सुचारीकरण की कार्यवाही गतिमान है।

सड़कों पर मलबा आने का सिलसिला जारी
चकराता l 
जौनसार बावर की सड़कों पर मलबा आने का सिलसिला लगातार जारी है l कालसी चकराता मोटर मार्ग सहित विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों को यातायात से जोड़ने वाले मोटर मार्गो पर मालवा आने से मार्ग बंद है जिससे क्षेत्र यातायात व्यवस्था पूरी तरह ठप हो गई है l यातायात सेवा बंद होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *