उत्तरकाशी:  भारत – चीन बार्डर से सटे भटवाड़ी ब्लाक के गांवो में बीएडीपी के विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण करने पहुंचे सीमांत क्षेत्र कार्यक्रम अनुश्रवण समिति परिषद के उपाध्यक्ष दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री जगवीर सिंह भंडारी ने सुदूरवर्ती गांवों में जाकर विकास कार्यों का जायजा लिया और अधिकारियों को दिशा-निर्देश भी दिए।

सीमावर्ती गांवों के लिए केन्द्र सरकार बीएडीपी कार्यक्रम के तहत आधारभूत सुविधाएं मुहैया कराने के लिए अलग से धन आवंटन करती है। जिसकी निगरानी के लिए राज्य सरकार ने अलग अनुश्रवण परिषद का गठन किया है।

राज्य के नौ सीमावर्ती ब्लाकों में बीएडीपी कार्यक्रम के तहत आधारभूत विकास कार्यों में बजट खर्च किया जाता है । इस योजना में बार्डर पर सेना के कैंपों में भी डेवलेपमेंट प्रोग्राम चलाये जाते हैं।

राज्य सरकार के परिषद उपाध्यक्ष दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री भंडारी ने सुखी झाला मुखबा धराली व अन्य कई गांवों के साथ सेना के वेश कैंप हर्षिल व नेलंग आदि स्थानों पर जाकर विकास कार्यों का जायजा लिया ।

उन्होंने इन विकास कार्यों की समीक्षा जिलाधिकारी से की और आगामी योजनाओं को अलग-अलग विभागों से न कराकर ब्लाक के माध्यम से ही करवाने की बात कही। इस दौरान उन्होंने नेताला में उद्यान विभाग के हाईटेक पादप संबर्धन प्रयोगशाला हर्षिल में झील निर्माण इंटर साइंस लैब मिलन केन्द्र धराली में हैलीपैड व पेयजल योजनाओं का स्थलीय निरीक्षण कर निर्माण कार्यों की बारीकियां परखी।

हर्षिल में कार्यदाई संस्था वन विभाग द्वारा झील निर्माण के कार्य से वै खासे नाराज हुये और सीघ्र ही कार्य को पूरा करने के निर्देश दिए गए।उनके साथ जिला पंचायत सदस्य चंदन पंवार ब्लाक प्रमुख बिनीता रावत मंडल धीरज अध्यक्ष सहित कई अन्य जनप्रतिनिधि भी उपस्थित रहे।

तत्पश्चात उन्होंने भटवाड़ी व उत्तरकाशी में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ भी बैठक कर विकास कार्यों की जानकारी ली जिसमें वरिष्ठ जीएमबिएन उत्तरकाशी के अध्यक्ष लोकेंद्र विष्ट जिलाध्यक्ष रमेश चैहान महामंत्री सतेंद्र राणा जिलामंत्री पवन नौटियाल जगमोहन रावत आदि वरिष्ठ नेता उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

बैरागी अखाड़ों के संतों ने लगाया सरकार पर फैसले थोपने का आरोप हरिद्वार। कुंभ मेला शुरू होने में अब कुछ ही समय शेष बचा है, मगर उससे पहले हरिद्वार में बैरागी अखाड़ों की नाराजगी दूर होती दिखाई नहीं दे रही है। इसी कड़ी में की नाराजगी दूर करने के लिये हरिद्वार पहुंचे अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी ने संतों से बंद कमरे में कई घंटे तक वार्ता की। इस दौरान बैरागी अखाड़ों के संतों ने कुंभ मेले के कार्यों को लेकर अपनी नाराजगी दर्ज कराई। इस मुलाकात में बैरागी अखाड़ों के श्री महंत और संतों ने कुंभ मेले के कार्य बैरागी कैंप में न होने पर अपनी नाराजगी दर्ज कराई। पंच निर्मोही अणि अखाड़े के श्री महंत राजेंद्र दास का कहना है कि हम चाहते हैं हरिद्वार का कुंभ भव्य और दिव्य हो. अभी तक कुंभ मेला प्रशासन द्वारा बैरागी अखाड़ों के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है, इसको लेकर अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि से चर्चा हुई है। मुख्यमंत्री से भी अनुरोध है कि प्रयागराज और वृंदावन की तर्ज पर ही कुंभ मेले को कराया जाए। वहीं, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने कहना है कि बैरागी अखाड़े के श्री महंत और संतों की मांग सही भी है, क्योंकि बैरागी अखाड़ों में टेंट, बिजली, पानी की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। सरकार से इस बारे में बातचीत की जाएगी और कहा जाएगा कि 13 अखाड़ों को जो भी व्यवस्था दी जाती है, वह सभी अखाड़ों को दी जाए। नरेंद्र गिरी ने कहा कि अभी तक हुए सरकार के कार्यों से संत संतुष्ट नहीं है, क्योंकि कुंभ मेले को लेकर बैरागी अखाड़ों के साधु संतों में असमंजस है। वहीं, राज्य सरकार पर शाही स्नान और कुंभ की अवधि घटाए जाने को लेकर भी महंत नरेंद्र गिरि ने नाराजगी जताई और कहा कि इस फैसले में अखाड़ा परिषद को विश्वास में नहीं लिया गया, इसलिये उसको मानने के लिए हम तैयार नहीं है। उनका कहना है कि कुंभ मेले के शाही स्नान की घोषणा मुख्यमंत्री और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद द्वारा की गई थी। उसमें कुंभ के चार स्नान की घोषणा की गई थी। यह बैठक कोरोना महामारी के वक्त हुई थी। मगर अब मुख्य सचिव द्वारा कहा जा रहा है कि दो ही शाही स्नान किए जाएंगे। इसको लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद से सरकार ने कोई वार्ता नहीं की है। संतों ने सरकार को आश्वासन दिया गया था कि कोरोना महामारी को देखते हुए कुंभ का आयोजन किया जाएगा। मगर प्रयागराज का कुंभ हो गया, वृंदावन में मेला चल रहा है। वहां कोरोना को लेकर कोई दिक्कत नहीं हुई, मगर हरिद्वार में सरकार अपनी कमियां छुपाने के लिए कोरोना का बहाना कर रही है। उनका कहना है कि कुंभ मेले को लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद और शासन द्वारा निर्णय लिया जाता है।मगर उत्तराखंड सरकार अपने आप ही निर्णय ले रही है और उन फैसलों को हमारे ऊपर थोप रही है।